17 December 2018 09:55 PM

Search
English

MEHRU JAFFER | 3 NOVEMBER, 2017

जब लखनऊ चला “बेयरफुट इन एथेंस”

MEHRU JAFFER


पद्मश्री राज बिसरिया का मैक्सवेल एंडरसन लिखित “बेयरफुट इन एथेंस” का हिन्दुस्तानी में रूपांतरण एक सामाजिक जिम्मेदारी का महत्वपूर्ण लम्हा है ।

यह नाटक लखनऊ में आयोजित किया गया था और इसे देख कर सुकरात द्वारा मन में गुनगुनाई जाने वाली प्रार्थना के साथ दर्शको ने सभागार छोड़ा ..

.... और आप सभी अन्य देवता जो इस शहर में रहते हैं, भीतर से मेरी आत्मा में सौंदर्य दें, बाहरी सुंदरता के लिए मुझमें संभावना नहीं है । क्या मैं मानता हूं बुद्धिमानों को और जिन लोगों को कम से कम देवताओं की तरह होना चाहिए । जो कुछ मेरे पास है मैं उससे तृप्त रहूँ मगर आत्म संतुष्ट नहीं बनूँ । मुझे जितना मिले उससे ज्याद: मैं दे सकूँ, मुझे नफरत से ज्यादा प्यार और जितना जी सका हूँ उसे से ज्याद: ज़िन्दगी मिले ।....

सुकरात के जीवन के अंतिम कुछ दिनों के आधार पर, बेयरफुट इन एथेंस का ख़ाका दुनिया के इतिहास में सबसे महान घटनाओं में से एक पर केंद्रित है ।

सुकरात, यीशु मसीह से करीब 500 साल पहले जन्मे थे । एथेनियन को उनके समय की देवी के द्वारा एक बुद्धिमान व्यक्ति कहा जाता है । मगर लोकतंत्र के प्रेमी की सच्चाई और ज्ञान की खोज करने वाले को उनके ही लोगों द्वारा ग़लत साबित किया जाता है । सुकरात पर बहुत सारे सवाल पूछने और अंतहीन बकवास का आरोप लगता है ।

यह सच है कि सुकरात को भीड़ भरे बाज़ार के आसपास घूमना और उनके पास आने वाले किसी भी व्यक्ति से बाते करना पसंद था । वह ऐसे प्रश्न पूछना पसंद करते थे, जिसका उनके पास जवाब नहीं होता था । वह जिम्मेदार है संग्रहालयों से फुटपाथ पर दर्शनशास्र को ले जाने के लिए । लेकिन उनकी स्वतंत्र भावना से डरते हुए, उस समय की असुरक्षित शक्तियों ने सुकरात को अदालत में निन्दा करने का दोषी ठहराया । उन पर आरोप लगाया गया था कि वे उस समय के देवताओं के लिए बेअदब थे और युवाओं को गुमराह कर रहे थे।

सौभाग्य से हमारे लिए, युवा प्लेटो वहां थे, आने वाली पीढ़ी के लिए सुकरात द्वारा “सॉक्रेट्स की अपोलॉजी” नामक दस्तावेज़ में संजोने के लिए । प्लेटो ने “द रिपब्लिक” भी लिखी, मुख्यतः यह माना जाता है कि उन्होंने भविष्य में न्यायपालिका द्वारा होने वाली हत्याओं को रोकने क लिए लिखी थी।

अपने मुकदमे में सुकरात कहते हैं:

मैं जवाब देने में असमर्थ था जैसा कि वे थे, लेकिन मैं जवाब नहीं दे रहा था, इसलिए मैंने उन सवालों का जवाब नहीं दिया, मैं सवाल कर रहा था और इसलिए मैंने उस ज्ञान के लिए प्रतिष्ठा अर्जित की जिसका मैं हक़दार नहीं था और अब भी नहीं हूँ । दूसरी बात जो हुयी, हालांकि, मुझे बहुत गंभीर लग रही थी, मुझे यह कहना चाहिए कि सत्य की खोज किसी भी देवता की तुलना में अधिक पवित्र है , किसी भी महिला से अधिक वांछनीय है, किसी भी बच्चे की तुलना में अधिक आशा से भरी हुई है, किसी भी शहर की तुलना में अधिक सुंदर, यहां तक कि खुद हमसे भी ज्याद: ज़रूरी है ! यदि आपने इसे नहीं देखा है तो आप मेरे खिलाफ मतदान करेंगे और आपको करना चाहिए । लेकिन आप एथेंस के लोग हैं, और आपने इसे देखा है या एथेंस यहां नहीं होगा, शुरुआत किये बगैर ये संभव नहीं होगा ! बिना जांचा परखा गया जीवन जीने के लायक नहीं है ! अनजान जीवन झूठ पर बनाया गया है,और एक आज़ाद दुनिया झूठ के द्वारा नहीं रह सकती है। केवल गुलामों की दुनिया झूठ से जी सकती है।

इतने वक़्त बाद, 1950 के दशक के आखिर में इस मुकदमेबाजी ने एंडरसन को बेयरफुट इन एथेंस लिखने की प्रेरणा दी थी, जो लोकतंत्र के लिए सुकरात के जीवन की आवाज़ के इर्दगिर्द बुना गया था ।

एंडरसन के नाटक के एक टेलीविजन के रूपांतरण में, पीटर उस्तिनोव ने अपने त्रुटिहीन अभिनय सुकरात की भूमिका को अमर किया था । लेकिन पद्मश्री राज बिसारिया की कास्टिंग में सुकरात के रूप में के सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ पूर्व के सभी सुकरात की तस्वीर को बदल देते है अब से सूर्य मोहन सुकरात और सुकरात सूर्य मोहन हैं, जब तक हमें इसके आगे नहीं मिलता ।

बेवकूफ के किरदार जुगल किशोर वास्तव में अभूतपूर्व रहे, प्रो. बिसरिया के बेयरफुट इन एथेंस सारे कलाकार, एक बेहतरीन मझे हुए ऑर्केस्ट्रा की तरह प्रदर्शन किया जो निश्चित रूप से दी कालीज़ीयम संस्था के अगले शो तक याद किया जाएगा । दी कालीज़ीयम शहर की की इकदम नयी संस्था है जो क्रिएटर्स लैब और एक इवेंट प्रबंधन की एक कंपनी के साझा प्रयासों द्वारा शुरू की गयी है, इसका मकसद शहर में संगीत, नृत्य व रंगमंच जैसी लाइव चीज़ों का प्रदर्शन करन है, दी कालीज़ीयम ने बेयरफुट इन एथेंस की मेजबानी के साथ जुल्स टेस्का के द बाल्कन वुमन नाटक भी हुआ, यह यूनियन त्रासदियों से प्रेरित एक युद्धविरोधी नाटक, जो दी ट्रोजन वोमेन से प्रेरित है, जिसे यूरोपीड्स द्वारा जीजस के जन्म से करीब 400 साल पहले लिखा था ।

हालांकि यह नाटक राजनीतिक रूप से इतना प्रासंगिक है, लेकिन द बाल्कन वोमेन की अतरिक्त भावनात्मक व्याख्या के कारण सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ का निर्देशन विफल रहा । निर्देशक अपने कलाकारों को अनावश्यक रूप से चीखने और चिल्लाने की अनुमति देते हैं और नाटक की पेस घटते और बढ़ते रहने से दर्शकों का अक्सर नाटक से खिंचाव कम होता जाता है और दर्शक मुख्य चार किरदारों की अस्ल की मुश्किलों से जुड़ाव महसूस करना बंद कर देते हैं जो जो मध्य युग 1992 में यूगोस्लाविया देश राष्ट्र के पतन के बाद बाल्कन युद्ध के आतंक पर वास्तव में बहुत गहरा आत्मनिरीक्षण है।

थिएटर आर्ट्स वर्कशॉप (TAW) के संस्थापक निदेशक बिसारिया ने बताया, "हम हास्य को मनोरंजन के लिए और आपको हँसाने के लिए नहीं बनाते । हम शास्त्रीय और नाट्य कलाओं के पुन: व्याख्या में रचनात्मक प्रासंगिकता की खोज करने के लिए प्रतिबद्ध हैं । " इन्होने 12 फरवरी, 1966 को अपना पहला प्रदर्शन पेश किया था ।

तब से, TAW एक प्रतिष्ठित, प्रमुख प्रशिक्षण और प्रदर्शनकारी थियेटर समूह की तरह है, जो उत्तर प्रदेश में अपनी तरह का पहला हे और अब दी कालीज़ीयम द्वारा भी प्रचारित किया जा रहा है ।
 

न्यूज़ सरोवर


संबंधित


नागरिक द सिटीजन को स्वतंत्र रखते है सहयोग करें !